hanuman jnmotsv

जय श्री राम जय हनुमान के नारो की गूंज के साथ संम्पन्न हुआ विशाल हनुमान जन्मोत्स्व का समारोह

Shiv Sanatan

रेवाड़ी के छिपटवाड़ा स्थित श्री राम सत्संग भवन द्वारा आयोजित विशाल हनुमान जन्मोत्सव का भंडारे के साथ समापन हो गया। कार्यक्रम की 26 अप्रैल को हवन व् भट्टी पूजन के साथ शुरुआत हुई। 01 अप्रैल को विशाल रामायण यात्रा का पूरे शहर में आयोजन किया गया। इसी कड़ी में 4 अप्रैल को बड़े जागरण का आयोजन हुआ।

जागरण में देश व विदेश से पहुंचे श्रद्धालुओं ने बड़ी संख्या में हिस्सा लिया। जागरण की शुरुआत हवन- पूजन के साथ हुई तथा सारा माहौल जय श्री राम के नारों से गूंज उठा। श्रद्धालुओं के साथ प्रभु श्री राम वह इष्ट श्री हनुमान जी का गुणगान करने के लिए दूर-दूर से कलाकार भी पहुंचे। जिनमें अटेली से कमलेश सैनी व उनका का म्यूजिकल ग्रुप, हाथरस से हाकिम हठीला व म्यूजिकल ग्रुप, कोलकाता से भजन गायिका सुष्मिता पांडे, अयोध्या से रत्नेश व निजामपुर से प्रसिद्ध गायक प्रेमदास पहुंचे।कार्यक्रम में कोलकाता से पहुंची सुष्मिता पांडे ने अपने भजनों द्वारा समा बांध दिया। श्रद्धालु नाचने-झूमने पर विवश हो गए। इसके अलावा दो पीढ़ियों से हनुमान जी की सेवा में कार्यरत हनुमान भक्त पहलाद सैनी के पुत्र व प्रसिद्ध गायक संजय सैनी ने भी ऐसा समा बांधा के लोगों की आँखे नम हो गयी। जागरण सुबह 4:00 बजे तक चला। जागरण में विशेष आकर्षण ईस्टधारी जी के भजन-प्रवचन रहा। मंच संचालन हर्ष करोडिया ने किया।

5 अप्रैल को महा रोट का भोग लगाया गया व भंडारे का आयोजन हुआ। महा रोट के कार्यक्रम में देश के कोने कोने से पहुंचकर श्रद्धालुओं ने अपने-अपने रोट को प्रभु चरणों में अर्पण किया। इस अवसर पर विशाल हवन का भी आयोजन किया गया। कार्यक्रम श्री राम वाटिका रामगढ रोड पर आयोजित किया गया। कार्यक्रम में लगभग 45 से 50 हजार लोगों ने हिस्सा लिया व प्रभु का आशीर्वाद लिया। कार्यक्रम को लेकर श्रद्धालुओं में इतना जोश था कि पूरे दिन प्रजापति चौक से लेकर एनएच 71 तक तमाम व्यवस्थाओं के बावजूद जाम की स्थिति बनी रही। लेकिन पुलिस प्रशासन के विशेष सहयोग व तत्परता के कारण सारा कार्यक्रम सही तरीके से संपन्न हुआ। श्री राम सत्संग भवन द्वारा श्रद्धालुओं के आने -जाने के लिए बस व टेंपो की व्यवस्था भी निशुल्क की गई थी। जिसमें बहुत सारे कार्यकर्ताओं का विशेष सहयोग रहा। कार्यक्रम और भंडारा शाम को 7:30 बजे तक चला।

कार्यक्रम के समापन की कड़ी में रेवाड़ी के पंजाबी धर्मशाला स्थित हॉल में महा-भंडारे का आयोजन किया गया। भंडारे में बड़ी संख्या में शहर वासियों ने प्रसाद चखा व हनुमान जयंती महोत्सव में पहुंचकर प्रभु श्री राम और हनुमान जी का आशीर्वाद लिया। कार्यक्रम में दूर-दूर से संत महात्मा भी पहुंचे जिनमें अट्टा धाम से संत श्री सतवीर नाथ जी महाराज, गौशाला प्रधान संत जीवाराम नैष्टिक जी भी श्रद्धालुओं को हनुमान जयंती के उपलक्ष में आशीर्वाद देने पहुंचे।

दूसरी ओर कार्यक्रम में पूर्व विधायक रणधीर सिंह का परिवार भी श्रद्धालुओं को प्रसाद खिलाते हुए भंडारा प्रसाद बांटते नजर आए। वहीं पूर्व मंत्री कैप्टन अजय सिंह यादव भी भंडारे में प्रसाद लेने पहुंचे। इसके अलावा अनेक राजनितिक हस्तियों ने भंडारे में पहुंचकर हनुमान जी का प्रसाद ग्रहण किया। सभी ने भंडारे के प्रसाद के बाद प्रभु हनुमान से लोक-कल्याण की प्रार्थना की।

कार्यक्रम के सूत्रधार व श्री राम सत्संग भवन के प्रमुख श्री शिवचंद इष्ट-धारि जी ने बताया की, यह आयोजन वह 1972 से करते आ रहे हैं। हनुमान जी उनके इष्ट है और इस आयोजन को करने के पीछे उनका लक्ष्य केवल अपने इष्ट के जन्मोत्सव को बड़े आनंद के साथ मनाना है, ताकि ज्यादा से ज्यादा लोग बजरंगबली महाराज का आशीर्वाद लेकर अपने जीवन के कष्टों को दूर कर सकें व जन्मोत्सव का प्रसाद लेकर श्री राम वह हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त कर सके। उनका संस्थान 24 घंटे, सातों दिन लोगों के कल्याण के लिए विभिन्न प्रकार के सामाजिक कार्यों में लगा रहता है। सामाजिक उत्थान का एकमात्र रास्ता सनातन से होकर गुजरता है। सनातन के नैतिक सिद्धांत व जीवनशैली ही मानव को श्रेष्ठ बना सकती है और समाज में भाईचारा कायम रख सकती है। उनका लक्ष्य आने वाली पीढ़ियों में सनातनी संस्कार जगाना व लोगों में शांति और भाईचारा कायम करना है।

कार्यक्रम में भूमिका निभाने वाली भाजपा प्रवक्ता वंदना पोपली ने भी हर अवसर पर पहुंचकर प्रभु का आशीर्वाद लिया वह विशेष सहयोगी के रुप में भूमिका अदा की। उन्होंने कहा उनका ऐसे कार्यक्रमों में मन लगता है तथा इस तरह के कार्यक्रम राजनैतिक सीमाओं से ऊपर होते हैं और हनुमान जी के जीवन से उन्हें एक ही प्रेरणा मिलती है कि, जिस तरह से बजरंगबली प्रभु श्रीराम की सेवा में लगे रहते है, आप जहां भी हो, जिस जीवन शैली में हो, जिस संस्थान में हो, जिस कर्म में हो उतनी ही तत्परता से कार्य करें तो, आपको अपने लक्ष्य की प्राप्ति अवश्य होगी। वही उनका-उनकी पार्टी का एक लक्ष्य विकास, तो दूसरा लक्ष्य रामराज स्थापित करना है।

कार्यक्रम में श्री राम सत्संग भवन सेवादल का विशेष योगदान रहा। श्री रघुनंदन शर्मा, रतन लाल जी के नेतृत्व में कार्यक्रम बड़ी सफलता व भक्ति भाव पूर्ण तरीके से संपन्न कराया। सभी सेवकों ने बिना थके लगातार सेवा कर के श्रद्धालुओं को न केवल प्रभु श्री राम, हनुमान जी का जन्मोत्सव आनंद पूर्ण व उल्लास के साथ मनाने का जो माहौल बनाया वह देखने लायक था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *